नाहरगढ़ fort car accident

खूनी हो गयी है नाहरगढ़ की वादियां

अरावली पर्वत मालाओं पर स्थित राजधानी जयपुर के मशहूर दो किले नाहरगढ़ किला और जयगढ़ किला जहां जाने के लिये बहुत ही मनमोहक और सुन्दर घाटियों वाला रास्ता है, मगर यह रास्ता पूरी तरह सरकारी लापरवाही के चलते अब खतरनाक और खूनी रास्ता बन गया हैं। यहां अक्सर दिल दहलाने वाली कई सड़क दुर्घनाओं और कई खतरनाक हादसे हो चुके है और यह अभी तक भी जारी है हैरानी है राजधानी तक में ऐसे डेंजर पांईट की अनदेखी हो रही है तो पूरे राज्य में हालत क्या होगी। नाहरगढ़ पहाड़ी की सैर में जरा भी लापरवाही हादसे का सबब बन जाती है क्योंकि यहां आठ किलींग पांईंट अर्थात खतरनाक मोड़ है जहां अक्सर वाहन चालक धोखा खाकर खाई में गिर जाते हैं यहां अधिकतर हादसे रात को ही होते है। ऐसे हादसों के बाद भी जयपुर के प्रशासन ने यहां लाइटिंग, सकेचक, दिवारे व गैरहा जैसे जरूरी इंतजामों पर ध्यान नहीं दिया है, पता नहीं क्यों? हैलो जयपुर टीम ने अभी गत् दिनों नाहरगढ़ की और जा रहे 10 किलोमीटर रास्ते का पूरा अवलोकन कर दुर्घटनाओं की वजह जानी और उन्हें रोकने के रास्तों को भी देखा। जयपुर के प्रशासन के अवलोकन के लिये हम इसका प्रकाशन जनहित में कर रहे है ताकि इन पर अमल करके असमय हो रही मोतों को हम किसी तरह रोक सके।

(हैलो जयपुर ब्यूरो)

दुर्घटना की वजह

  • सड़क की चौड़ाई कम होना।
  • सड़क पर खतरनाक मोड़ होना।
  • जगह-जगह से सड़क का खराब होना।
  • नाहरगढ़ के रास्ते में सड़क किनारे पेड़ों की टहनियों का आना।
  • यहां दुर्घटना संभावित क्षेत्र का बोर्ड न होना।
  • रास्ते में खतरनाक मोड़ से पहले सड़क पर बे्रकर न होना।

यहां रोक सकते हैं हादसे

  • सड़क किनारे रात को चमकने वाले रंगयुक्त पक्की दीवारे बनें।
  • घुमाव पर चेतावनी बोर्ड लगाए जाएं।
  • खतरनाक मोड़ से पहले ब्रेकर बनाए जाएं।
  • पुलिस गश्त बढ़े।
  • दुर्घटना संभावित मोड़ पर लाईट की व्यवस्थाकी जाए।
  • पहाड़ी पर शराब पीकर वाहन दौडऩे वालों का चालान हो।
  • सड़क पर जगह-जगह बने गड्ढे दुरस्त किए जाऐं।

Leave a Reply