Hello Jaipur

जयपुर के नजदीक ‘कूल’ में मनाये पिकनिक | Temple Near Jaipur for Picnic

राजधानी जयपुर से करीब चालीस किलोमीटर दूर जयपुर-दिल्ली हाइवे पर भानपुर कलाँ गाँव में मुड़कर अन्दर करीब दस-बारह किलोमीटर भीतर टोडा गाँव में एक अद्भूत मनोरम प्राकृतिक स्थल ‘कूल’ मौजूद है। अपने नाम के मुताबिक यह ठंडा भी है। अरावली पर्वत मालाओं के बीच जहाँ फुल जंगल का माहौल, आम के पेड़ों का बागान और प्राचीन मन्दिर जहाँ सैंकड़ों वर्षों से अखंड ज्योत जल रही है। खुशनुमा मौसम में यहाँ लाँग ड्राईव करके आना काफी रोमांचक है। जयपुर के बिल्कुल नजदीक इतना जबरदस्त प्राकृतिक खूबसूरत माहौल एक वाटगी तो हैरान कर देता है। हैलो जयपुर पाठकों के लिये ‘कूल’  नामक स्थल के लिये कुछ जानकारियां है जो आप से शेयर करना जरूरी है।

 

स्थिति – राजधानी के अजमेरी गेट से 40 किलोमीटर दूर बासना गांव के पास है ‘कूल’

जाने का मौसम – मानसून के चार महीने, सर्दी की शुरूआत में

सुविधाएं – पानी के लिए हैडपम्प

मंदिर में तिबारों के अलावा बाहर बड़ा वृक्ष

मंदिर में पांच सौ आदमियों की रसोई के लिए बर्तन उपलब्ध है।

नजदीकी स्थान – करीब 3 किलोमीटर आगे प्रसिद्ध टोडेश्वर महादेव मंदिर है। यहां पर पानी के चार कुण्ड बने हुए है। जिनमें एक कुण्ड महिला और दूसरा पुरुषों के नहाने के लिए है। अन्य दो कुण्डों का पानी पीने के काम आता है।

आकर्षण

पहाड़ों के बीच इसकी पाल पर बना भर्तृहरि का मंदिर

पहाडिय़ों के बीच वेग से बहती उन्मुक्त हवा

रास्ते में कई जगह लहाराती फसलें और बीहड़ जैसी घाटियां, एक तरफ आम का बगीचा

सिद्ध बाबा का मंदिर जहाँ घी के अखण्ड दिए जलते हैं। मंदिर परिसर में ही दो पानी के कुण्ड है। मंदिर के बाहर एक कुई बनी हुई है जिसमें चार फीट की गहराई पर ही पानी है जिसे गांव वाले पानी के काम लेते हैं।

मंदिर के नीचे से बहती अनवरत जलधारा

कैसे पहुंचे-

अपने साधन से – दिल्ली रोड पर आमेर, कूकस, ढण्ड गांव से पूर्व की ओर भानपुर कलां गांव के बस स्टैण्ड से उत्तर की ओर बासना गांव जाएं। बासना गांव से साढ़े तीन किलोमीटर दूर जाने पर पहाड़ी की तलहटी के साथ कच्ची सड़क जाती है। यही सड़क आपको सीधे कूल ले जाएगी।

बस से कैसे पहुंचे – जयपुर के जलेब चौक से सरकारी और पुराना रामगढ़ मोड़ बस स्टैण्ड से निजी बस (टोडा मीणा) टोडेश्वर महादेव मंदिर के लिए जाती है। बासना गांव से कुछ किलोमीटर चलने के बाद पहाड़ी की तलहटी की ओर कच्ची सड़क जाती है। यहां तक बस से जाया जा सकता है। इसके आगे करीब डेढ़ किलोमीटर तक ट्रैकिंग करते हुए कूल पहुंचा जा सकता है। भानपुर कलां गांव के लिए जलेब चौक और पुराना रामगढ़ मोड़ बस स्टैण्ड से हर आधे घंटे में बस जाती है।

(हैलो जयपुर ब्युरो)

सिद्ध बाबा का सिद्ध स्थान

कूल नामक इस जगह सिद्ध बाबा का स्थान माना जाता है और यहाँ अखण्ड ज्योत हरदम प्रज्जवलित ही रहती है। यहाँ से कुछ ऊपर पहाड़ी की तरफ करीब डेढ़ किलोमीटर पर हनुमान जी का अतिप्राचीन मन्दिर भी है। जंगली जानवरों के विचरण क्षेत्र में मौजूद इस सिद्धस्थान के पुजारी रमेश का कहना है कि वर्षा ऋतु में तो यहाँ झरना भी आता है और यह स्थान करीब पाँच सौ वर्ष पुराना है। पुजारी रमेश ने बताया कि यहाँ तक रोडलाईट, पानी और सड़क का विकास कार्य पूर्व एमएलए गोपाल मीणा ने करवाया था जिस कारण यहाँ आने वाले भक्तों को काफी सुविधा हो गयी है।