डिजिटल इंडिया महुआ

डिजिटल इण्डिया का सपना साकार कर रहे ओम प्रकाश हुडला

जयपुर। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के डिजिटल इंडिया के सपने को सही मायने में साकार कर रहा है राजस्थान का महुवा विधानसभा क्षेत्र। यहां के अस्पताल, विद्यालय और पुलिस थानों सहित अन्य सरकारी कार्यालयों का डिजिटलाइजेशन किया गया है। क्षेत्रीय विधायक श्री ओम प्रकाश हुडला के प्रयासों से किए गए इस कार्य के चौंकाने वाले सकारात्मक परिणाम सामने आए हैं और अन्य जनप्रतिनिधि भी इससे प्रेरणा लेकर अपने क्षेत्र को डिजीटलाइजेशन की ओर तेजी से बढ़ा रहे हैं। डिजिटलाइजेशन की इस महत्वाकांक्षी पहल से महुवा विधानसभा क्षेत्र में न केवल सुशासन स्थापित हुआ है, बल्कि अपराध का ग्राफ भी नीचे आया है। सरकारी कार्यालयों में समय पर कर्मचारियों का पहुंचना, परवादियों के साथ कर्मचारियों का मधुर व्यवहार, कार्य का समयबद्ध निस्तारण, अस्पतालाओं में सुदृढ़ चिकित्सा व्यवस्था, विद्यालयों में बढ़ता नामांकन इसी का परिणाम है। उल्लेखनीय है कि महुवा विधायक श्री ओमप्रकाश हुड़ला द्वारा अपने विधायक कोष से तहसील, पंचायत समिति, अटल सेवा केन्द्र, उच्च माध्यमिक विद्यालय, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों और पुलिस थानों में सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। इन सीसीटीवी कैमरों को उपखंड अधिकारी के कार्यालय में लगी बड़ी एलसीडी स्क्रीन से जोड़ गया है, जहां प्रत्येक कार्यालय की लाइव मॉनिटरिंग की जाती है। इतना ही नहीं फुटेज के साथ सम्बंधित कार्यालय अधीक्षक के नंबर भी स्क्रीन पर आते हैं, अगर उपखंड अधिकारी उन्हें कोई निर्देश देना चाहें, तो वहां से दे सकते हैं। खुद विधायक ने भी अपने मोबाइल से इन कैमरों को जोड़ रखा है, जिससे वो इन स्थानों की खुद मॉनिटरिंग करते हैं। श्री हुड़ला का कहना है कि यह सब प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे के दूरदर्शी विजन का ही परिणाम है।

आदर्श चिकित्सा केंद्र बनी महुआ सीएचसी विधायक श्री हुड़ला के इस नवाचार ने महुवा के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र को प्रदेश की आदर्श चिकित्सा संस्था बना दिया है। अब यहां समय पर डॉक्टर मिलते हैं, दवाई के लिए लम्बी लाइन नहीं लगती। मरीज को समय पर सही उपचार मिल जाता है और साफ-सफाई ऐसी कि प्राइवेट हॉस्पिटल भी फीके पड़ जाएं। यहां लम्बे अर्से से बंद पड़ा ऑपरेशन थियेटर चालू हो चुका है। प्रत्येक वार्ड को वातानुकूलित किया गया है। तीमारदारों के लिए अच्छी सुविधाओं वाली धर्मशाला बन चुकी है। मरीजों को न केवल समय पर दवाई मिलती है बल्कि वार्ड को संक्रमण रहित रखने के लिए प्रत्येक दिन बेडशीट बदली जाती है। इस स्वास्थ्य केन्द्र में प्रवेश से लेकर वार्ड, डॉक्टर रूम, नर्सिंग रूम और गलियारों तक में कैमरे लगे हुए हैं, जिनके माध्यम से केन्द्र अधीक्षक प्रत्येक गतिविधि पर निगरानी रखते हैं। इस नवाचार से न केवल चिकित्सा सुविधाओं में वृद्धि हुई बल्कि अस्पताल प्रांगण से होने वाली वाहन चोरियों की संख्या भी शून्य हो गई है। केन्द्र प्रभारी डॉ. दिनेश मीणा ने बताया कि वर्ष 2013 में जहां ओपीडी में मरीजों की संख्या 55 हजार थी, वह बढक़र वर्ष 2014 में 85 हजार, वर्ष 2015 में 1 लाख 85 हजार और वर्ष 2016 में 2 लाख 56 हजार हो गई है। अस्पताल से मरीजों के रैफरल केसज में भारी कमी आई है। वर्ष 2013-14 में यहां से रेफर किए गए मरीजों की संख्या 1600 थी, जो वर्ष 2016 में मात्र 80 रह गई है। वर्ष 2013 में अस्पताल प्रांगण से 385 वाहन चोरियां हुई थी, जो अब शून्य हो गई हैं। आमजन में विश्वास अपराधियों में बढ़ा डर प्रदेश के सबसे संवेदनशील थानों में शामिल महुआ थाने का सूरत ए हाल अब बदला हुआ नजर आता है। साफ-सफाई, परिवादियों के साथ

पुलिस का संयत व्यवहार और हर गतिविधि पर कैमेरे की पैनी नजर रहती है। इससे पुलिस कर्मियों का व्यवहार तो संयत हुआ ही है, अपराधियों की पैरवी करने आने वाले कथित प्रभावशालियों की संख्या भी शून्य हो गई है। महुआ थाने से प्रमुख चौराहों पर लगे कैमरों को भी लिंक कर रखा है, इससे मारपीट और वाहन चोरी की घटनाओं पर काफी अंकुश लगा है। किसानों को समय पर मिलने लगे ट्रांसफार्मर क्षेत्र के किसानों के लिए बिजलीघर में आना, मतलब समस्याओं के अंतहीन सिलसिले को बुलावा देना था। जब स्थानीय ग्रामीण ट्रांसफार्मर जल जाने या दूसरे कार्यों के लिए यहा आते थे, तो कर्मचारियों की मनमानी से उनका हौसला पस्त हो जाता था। सीसीटीवी कैमरे लगने से यहां के किसानों को बड़ी राहत मिली है। पहले गोदाम में ट्रांसफार्मर नहीं होना, बाबूजी का छुट्टी पर होना जैसे बहानों से किसानों को टरका दिया जाता था, लेकिन अब यह सब बंद हो गया है। क्षेत्र के किसान रामहरी ने बताया कि अब किसानों को समय पर ट्रांसफार्मर मिलने लगे हैं और इस महकमे से जुड़े काम हाथों-हाथ हो रहे हैं।

अभिभावक घर से कर रहे अपने बच्चे की निगरानी- क्षेत्र का सबसे बड़ा विद्यालय है श्री टीकाराम पालीवाल राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, महुवा। इस विद्यालय के शैक्षणिक स्तर को देखकर अब पब्लिक स्कूल भी यहां से प्रेरणा लेने लगे हैं। शिक्षकों का समय पर आना, विद्यार्थियों से नियमित संवाद, कोर्स का सही समय पर पूरा करवाने का ही नतीजा है कि इस विद्यालय का परिणाम गत वर्ष 90 फीसदी से अधिक रहा। इस वर्ष नामांकन भी लगभग दोगुना हो गया। विधायक श्री हुडला द्वारा विद्यालय प्रांगण में कैमरे लगा दिए गए हैं, जिससे विद्यालय की प्रत्येेक गतिविधि प्रधानाचार्य अपने कक्ष से मॉनीटर कर सकते हैं। इसके साथ ही अभिभावकों को भी यह सुविधा दे रखी है कि वे सीसीटीवी कैमरों का लिंक अपने मोबाइल या कम्प्यूटर पर लेकर अपने बच्चे की निगरानी घर से कर सकते हैं। इस तरह का प्रयोग करने वाला प्रदेश का यह पहला सरकारी विद्यालय है। अपराध की राह पर बढऩे से पहले ही थम गए कदम सरस्वती वंदना के बाद जब विद्यार्थी अपने कक्षा कक्षों की तरफ जाने लगे, तो उनका ध्यान कमरे की छत पर गया, जहां लगा हुआ पंखा गायब था। छात्रों ने इसकी सूचना अपनी कक्षा के अध्यापक को दी। पंखे की खोज शुरू की गई, लेकिन विद्यालय प्रशासन को कोई सफलता नहीं मिली। तभी प्रधानाचार्य ने सीसीटीवी कैमरों की फुटेज निकलवाने का फैसला लिया। फुटेज निकाली तो पता चला कि एक छात्र पंखा खोल कर ले जा रहा है। नौनिहाल के भविष्य की चिंता कर विद्यालय प्रशासन ने पुलिस को सूचित करने के बजाय उसके अभिभावक को इस घटना के सम्बंध में सूचित किया। छात्र के पिता ने बच्चे को समझाया और विद्यालय प्रशासन को धन्यवाद दिया। साथ ही उन्होंने विद्यालय में नए पंखे लगवाए और विकास कोष में 1100 रूपये भी जमा करवाए। छात्र ने इस घटना के लिए माफी मांगी। प्रधानाचार्य श्री कृपाशंकर शर्मा का कहना है कि सीसीटीवी कैमरों से न केवल चोरी रूकी, बल्कि एक छात्र गलत राह पर चलने से भी बच गया।

पकड़ा गया अपराधी, बरामद हुई राशि- महुवा विधानसभा क्षेत्र के मण्डावर थाना इलाके में व्यापारी राधाकिशन अग्रवाल की दुकान से किसी ने 1 लाख 42 हजार रूपये चुरा लिए। व्यापारी ने इसकी प्राथमिकी थाने में दर्ज करवाई। पुलिस ने कस्बे के चौराहे पर लगेे कैमरे की रिकॉर्डिंंग निकलवाई तो पता चला कि एक छात्र दुकान से पैसा चुरा रहा है। पुलिस ने आस-पास के स्कूलों में सर्च अभियान शुरू किया। कुछ ही समय में उस छात्र का पता चल गया, पुलिस ने चुराई गई राशि भी बरामद कर ली। चूंकि चोर नाबालिग था, इसलिए पुलिस द्वारा उस छात्र की काउंसलिंग की गई। इस प्रकार सीसीटीवी

कैमरों की वजह से न केवल चोरी हुई राशि मिली, बल्कि एक छात्र भी आपराधिक राह पर निकलने से बच गया।

आदर्श रूप ले रहा- महुआ विधानसभा क्षेत्र विधायक श्री हुड़ला के ये नवाचार क्षेत्र की जनता को बड़ी राहत दे रहे हैं। साथ ही श्री हुड़ला फ्लैगशिप योजनाओं के बेहतर क्रियान्वयन के लिए उनकी साप्ताहिक समीक्षा भी करते हैं। साथ ही वे विधायक सेवा केंद्र में किसी भी समय परिवादियों की समस्या को तत्परता के साथ सुनकर उनका समाधान करने का हरसंभव प्रयास करते हैं। विधायक का यह विजन महुवा को आदर्श विधानसभा क्षेत्र के रूप में विकसित कर रहा है।

Leave a Reply