Hello Jaipur

सफर में बच कर रहे जहर खुरानी से

picture credits - passportandpixels.com

गत कुछ वर्षो से सफर के दौरान जहर खुरानी अर्थात् सहयात्री द्वारा धीमा जहर देकर लूटने की वारदातें भारतभर में बढ़ रही है। बस और रेल यात्रा के दौरान होने वाली जहर खुरानी की वारदातें आमजन और पुलिस के लिये भी चिन्ताजनक बन पड़ी है। पुलिस इनके प्रति जागरूक है लेकिन आम यात्री की जागरूकता ही जहर खुरानी की वारदातों को रोकने में सफल साबित हो सकती है, बस जरूरत है कुछ सावधानियां रखने की। यह अपराधी काफी शातिर होते हैं और मध्यम लम्बी दूरी के यात्राओं की यात्राओ के दौरान ही यह सक्रिय रहते है यात्रा के दौरान सहयात्री पर अपना विश्वास इस कदर बना लेते है मानो वह पूरी तरह सम्मोहित हो गया हो। सभी यह बात अच्छी तरह जानने है कि रेल-बस या अन्य यात्रा के दौरान किसी से कुछ भी लेकर नहीं खाना-पीना चाहिये लेकिन फिर भी मासूमियत भरे यह शातिर अपराधी विश्वास का माहौल बनते ही कुछ खाने-पीने की सामग्री पेश कर ही देते है जिन्हें इंकार करना संभव नहीं होता और फिर इसे खाते ही नीम बेहोशी छा जाती है जिससे उस अपराधी की तमाम कोशिशें सफल हो जाती है और वह माल लेकर चम्पत हो जाता है। ऐसे यात्रियों को फिर रेल-बस खाली होने पर पुलिस या सफाई कर्मचारी ही संभालते है।

जहर खुरानी की वारदातें करने वाले अपराधी यात्रा शुरू होते ही अपनी सुखपूर्वक जिन्दगी का बखान करने लगते है लेकिन इससे पूर्व वह अपने लिये सॉफ्ट टारगेट चुनते हैं जिन्हें अपने चक्कर में लेने के लिए ज्यादा मशक्कत नहीं करनी पड़े। सिर्फ बातों के धनी यह अपराधी ज्यादातर बिस्कुट खिलाकर लूटते हैं और जब यह बिस्कुट का पैकिट खोलते हैं तब उसमें तीसरे या चौथे नम्बर का बिस्कुट जहर भरा होता है। पहले दो-तीन खाने के बाद ऑफर करते है जिसे अक्सर सामने वाला ग्रहण कर ही लेता हैं। कई बार तो बीच के स्टेशनों से यह बिस्कुट का पैकिट खिड़की में देख रहे यात्री के सामने ही खरीदते है लेकिन दरवाजे से चढ़ते समय यह उसी ब्राण्ड का पैकिट पहले से जो उसके पास रखा था उसे बदल लेते है। अब सहयात्री को उसकी इस कुटिलता का पता चल नहीं पाता और वह फिर उसे खाने से इंकार कर नहीं पाता और उनकी चपेट में आ ही जाता है। ऐसे ही गत्तों के डिब्बे में आने वाली कोल्ड ड्रिंक्स में इंजेक्शन के द्वारा जहर मिला देते हैं। गत कुछ समय से मिनरल वाटर की बोतलों में भी इंजेक्शन की सहायता से बेहोशी की दवायें मिलाने की जानकारी मिली है। ऐसी लूट की वारदातों से सफर के दौरान बचने का सिर्फ एक ही रास्ता है चाहे कोई कितना भी आग्रह क्यों नहीं करें, अनजान से लेकर कुछ भी नहीं खाना चाहियं और अगर वह आप में ज्यादा दिलचस्पी ले रहा है तो अपनी सीट बदल लेवें या जानबूझ कर आँखें बंद करके सावधानीपूर्वक यात्रा का आनन्द लेते रहे।